Aaj ka sarson ka bhav: सरसों में आई तेजी या मंदी जाने प्रमुख अनाज मंडियों में सरसों का लेटेस्ट रेट

सरसों तेल दाम बढ़े

Aaj sarson ka,Sarsho tel dam kya hai, Sarsho Tel Today Price, Sarsho Tel Today Price, sarsho tel dam Bihar,

Aaj ka sarson ka bhav: सरसों में आई तेजी या मंदी जाने प्रमुख अनाज मंडियों में सरसों का लेटेस्ट रेट

 

नमस्कार किसान भाइयों क्या आपको आज का सरसों का भाव पता है यदि नहीं तो आपको इस पोस्ट में देश की सभी प्रमुख अनाज मंडियों में चल रहे सरसों के ताजा भाव की जानकारी मंडी अनुसार प्रदान की गई है।

Bihar Jankari Delhi: किसान भाइयों आज हम आपको देश की प्रमुख मंडियों में सरसों के ताजा भाव की जानकारी देंगे। इस बार देश में सरसों की फसल का बंपर उत्पादन होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

सरसों तेल दाम

सरसो फसल इस साल सबसे ज्यादा कहा हुआ है।

जानकारी के लिए आपको बता दें सरसों की फसल की बिजाई समानता या नवंबर से दिसंबर माह में की जाती है और मार्च-अप्रैल में इसकी कटाई होती है। भारत में सरसों की खेती मुख्य पंजाब राजस्थान उत्तर प्रदेश बिहार पश्चिम बंगाल और गुजरात में अधिक की जाती है। ईश्वर हरियाणा मैं भी सरसों की बुवाई बड़े स्तर पर की गई है। इस मंडी रेट 2 जून 2022 के अब तक के मंडियों में हुई सरसों बोली के अनुसार आपको लेटेस्ट प्राइस यहां प्रदान किए जा रहे हैं जैसे ही अन्य मंडियों के भाव आएंगे यहां पर अपडेट कर दिए जाएंगे।

 

Today petrol Diesel price आज पेट्रोल डीजल के दाम में हुआ राहत गैस सरसो तेल दाम गिराबट

Mustard Oil Price Today प्रति क्विंटल

सरसों तिलहन – 7,465-7,515 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये प्रति क्विंटल।
मूंगफली – 6,775 – 6,870 रुपये प्रति क्विन्टल।
मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात) – 15,650 रुपये प्रति क्विन्टल।
मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,595 – 2,785 रुपये प्रति टिन।
सरसों तेल दादरी- 14,850 रुपये प्रति क्विंटल।
सरसों पक्की घानी- 2,355-2,430 रुपये प्रति टिन।
सरसों कच्ची घानी- 2,405-2,505 रुपये प्रति टिन।
तिल तेल मिल डिलिवरी – 17,000-18,500 रुपये प्रति क्विंटल।
सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 16,500 रुपये प्रति क्विंटल।

 

हो रही थी दिक्कत।

 

भारत में 60% से ज्यादा खाद्य तेल का आयात करती है बीते कुछ माह में रूस और यूक्रेन के बीच में जंग चल रही थी अलावे इंडोनेशिया द्वारा निर्यात पर पाबंदी से आयात प्रभावित हुई इस वजह से वैश्विक के साथ घरेलू बाजार में भी खाने की तेल की कीमत में बढ़ोतरी देखने को मिली हालांकि सरकार ने पिछले साल कीमत में कटौती को लेकर अहम फैसला लिया था।

 

महंगाई पर एक्शन की मोड में हाय केंद्र सरकार जाने क्या क्या चीज पर महंगाई क्या मेरी ।

 

महंगाई के मोर्चे पर सरकार अभी कहां फैसला ले रहा जैकसन के मूड में नजर आ रही आपको बता दी कि सरकार ने तेल की कीमतों के बीच में पिछले सप्ताह पेट्रोल और डीजल के उत्पादकों को हटाया था। इसी इस्पात लो प्लास्टिक उद्योग में इस्तेमाल होने वाले कुछ कच्चे माल को भी आयात शुल्क भी हटाने का निर्णय लिया था। बढ़ती महंगाई को लेकर केंद्र सरकार ने बहुत बड़ा फैसला लिया है जिसके तहत जिस चीज का महंगाई आसमान छू रही थी उस पर एक्शन लेकर दाम को कम करने का आदेश दिया गया है।

 

Aaj sarson Tel ka dam

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top